credit:instagram/worldathletics

आखिर क्योँ मॉर्डर्न एथलीट्स के कैरियर सिमट कर रह गए हैं

credit:instagram/lleblanc74

मॉर्डन एथलीट्स में अपेक्षाओं की कमी नजर  आती है और इसलिए उनका करियर लंबा नहीं हो पाता है।

credit:instagram/worldathletics

किसी  भी एथलीट के लिए अपनी गलतियों से सीखना बहुत जरूरी होता है, कई एथलीट अपनी गलतियों को नजरअंदाज करते हैं जो उन पर भारी पड़ती हैं।

credit:instagram/hussainbolt

आधुनिक एथलीट्स में प्रतिभा होने के बावजूद वह उम्मीदों पर खरे नहीं उतर पाते हैं तभी तो कई रिकॉर्ड अटूट हैं, जैसे 100 मीटर दौड़ का उसेन बोल्ट का रिकॉर्ड अबतक नहीं टूट पाया।

credit:instagram/worldathletics

आधुनिक दौर में अब अधिकांश एथलीट्स की निर्भरता अपने कोचों पर रह गई है, वह अपने करियर के लिए खुद के प्लान या आईडिया को अमल में नहीं लाते हैं।

credit:instagram/worldathletics

आधुनिक एथलीट्स अपने सही गोल सेट नहीं कर पाते हैं, वह बेहतर खिलाड़ी  और खूब पैसा कमाने जैसे लक्ष्य रखते हैं जिसे उनका करियर प्रभावित हो जाता है।

credit:instagram/worldathletics

मॉर्डन एथलीट्स की मानसिकता उनके करियर पर बुरा असर डालती है, अक्सर वह अपनी  मजबूती पर फोकस न करके कमजोरियों पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

credit:instagram/moderndayathlete

मॉर्डन डे में प्रतिस्पर्धा काफी बढ़ चुकी है इसलिए  खिलाड़ियों को कम मौके मिलते हैं कामयाब होने के लिए इन्हें ही भुनाना पड़ता है।

credit:instagram/worldatheletics

मॉर्डन एथलीट्स् में खेल क्षमता को बढ़ाने वाली दवाईयों का सेवन करने के कई मामले  आए हैं, डोपिंग के चलते कई एथलीट का करियर खत्म तक हुआ है।

credit:instagram/worldathletics

एक एथलीट्स का शारीरिक रूप से मजबूत होना जरूरी है पर कई एथलीट्स में इसकी कमी नजर आती है और इसलिए कई बार चोटिल होकर उनका करियर खत्म हो जाता है।

credit:instagram/worldathletics

मॉर्डन एथलीट में अनुशासन की कमी देखी जाती है और इसका बुरा असर उनकी फिटनेस पर पड़ता है वह इससे अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं।

credit:youtube

आधुनिक समय के एथलीट तकनीक और कृत्रिम चीजों पर ज्यादा निर्भर होते हैं और  इसलिए वह एक परिपक्व एथलीट के रूप में विकसित नहीं हो पाते हैं।

credit:instagram/worldathletics

किसी एथलीट के लिए अपनी सफलता  और  असफलता का आकलन करना जरूरी है ताकि वह खुद में सुधार कर सके कई मॉर्डन एथलीट  ऐसा नहीं करते हैं।